महमूद की पहरेदारी में इश्क़ फरमाते थे धर्मेंद्र-हेमा मालिनी

0
13

धर्मेन्द्र और हेमा मालिनी की लव स्टोरी किसी फ़िल्मी स्टोरी से कम नहीं है. धर्मेन्द्र ने हेमा मालिनी को पाने के लिए कडा संघर्ष किया जबकि हेमा के परिवार के अलावा पूरा बॉलीवुड इस प्यार के खिलाफ था .इसके बावजूद दोनों ने इस प्रेमकहानी को अंजाम तक पहुंचा ही दिया.इस प्रेम कहानी के हैप्पी एंडिंग के लिए धर्मेन्द्र अभिनेता महमूद के हमेशा एहसानमंद रहे जो इन दोनों के प्रेम को दुनिया की नजरों से बचाए रखने के लिए पहरेदार का काम किया करते थे.

हेमा मालिनी की ज़िन्दगी में धर्मेन्द्र की एंट्री हेमा की मां जया चक्रवर्ती के कारण हुई .संजीव कुमार से रिश्ते टूटने के बाद हेमा मालिनी अभिनेता जीतेंद्र के साथ प्यार की पींगे भरने लगी .जया चक्रवर्ती हेमा को बॉलीवुड की नंबर वन हीरोइन बनाना चाहती थी जबकि हेमा अपने निजी रिश्तों को ज्यादा तवज्जो दे रही थी .जैसे ही हेमा मालिनी और जीतेंद्र के अफेयर की खबर जया चक्रवर्ती के पास पहुँची उन्होंने धर्मेन्द्र को इसके लिए राजी किया कि वो हेमा को जीतेंद्र से मिलने से रोंके. हेमा को धर्मेन्द्र के निकट लाने के लिए जया चक्रवर्ती ने फिल्ममेकर्स पर दबाव डालना शुरू किया कि वो हेमा की जोड़ी जीतेंद्र के बजाय धर्मेन्द्र के साथ बनाएं .नतीजा ये रहा कि साथ-साथ काम करते हुए हेमा-धर्मेन्द्र काफी निकट आ गए .जया ने सोचा था कि धर्मेन्द्र शादीशुदा हैं और कई बच्चों के पिता भी .इसलिए इस जोड़ी का निजी मेल तो हो ही नहीं सकता लेकिन हुआ ठीक इसका उलटा और अब जया चक्रवर्ती खुद दोनों के बीच पहरा देने लगी .लेकिन जिन फिल्मों को हेमा मालिनी ने पहले से साइन कर रखा था उसे लेकर मजबूरी थी.ऐसी ही एक फिल्म थी ‘जुगनू’ .

जुगनू की शूटिंग के दौरान जया चक्रवर्ती मुस्तैदी से सेट पर मौजूद रहती ताकि धर्मेन्द्र और हेमा आपस में मिल ना पाएं .कुछ दिनों बाद जया की इस मुस्तैदी के कारण धर्मेन्द्र और हेमा काफी परेशान हो गए .उनकी इस मुश्किल का हल निकाला अभिनेता महमूद ने .महमूद किसी ना किसी बहाने जया को सेट से बाहर लेकर चले जाते और मौक़ा मिलते ही धर्मेन्द्र और हेमा एक वैन में घुस जाते .जब जया चक्रवर्ती वापस लौटती उससे पहले ही महमूद अपने किसी लड़के से खबर भिजवा देते और धर्मेन्द्र-हेमा सेट पर पहुँच जाते. लेकिन ये तरकीब ज्यादा दिनों तक काम नहीं आई और जया ने भी सख्ती बढ़ा दी .

अब मिलन की जगह इनडोर शूटिंग स्थल बन गया जहां गेट पर खड़े रह कर महमूद पहरा देते और अन्दर एक प्रेम कहानी अपने मंजिल की तरफ बढ़ती रहती .जया चक्रवर्ती अपनी लाख कोशिशों के बावजूद धर्मेन्द्र और हेमा को अलग नहीं रख पाई और इस प्रेम कहानी को अंजाम तक पहुंचाने में महमूद ने बड़ा रोल अदा किया .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here