ऐसे जूही की जगह नगमा बनी फ़िरोज़ खान के ‘यलगार’ की हीरोइन

0
49

एक -आध सितारों को छोड़ दें शायद कम ही ऐसे स्टार होंगे जो डी गैंग के साथ संबंधों के आरोप से बचे हों. ये संबंध कैसे थे इसका खुलासा तो ज्यादा नहीं हुआ लेकिन ये तो सच है कि डी गैंग के हर सिपहसालार की बॉलीवुड एक ना एक माशूकाएं जरूर थी, जिनका फ़िल्मी करियर सँवारने की जिम्मेदारी उन्होंने ले रखी थी. ये अलग बात इससे अभिनेत्रियों का करियर आगे बढ़ने के बजाय तबाह हो गया. लेकिन दबाव तो था ही और पूरा बॉलीवुड डी गैंग के इशारों पर भींगी बिल्ली बनकर नाच रहा था. एक बार फ़िरोज़ खान ने डॉन की हुक्म उदूली की जुर्रत दिखाई थी लेकिन आखिरकार उन्हें भी हार माननी ही पड़ी.

1992 में फ़िरोज़ खान ने फिल्म यलगार ‘ का ऐलान किया जिसमें संजय दत्त और जूही चावला को रोमांटिक लीड के लिए साईन किया गया। फ़िरोज़ खान ने इस फिल्म के सारे गानों की शूटिंग लन्दन में पूरी कर ली और फिल्म का एक शेड्यूल वहीं पूरा करने का मन बनाया। फिल्म की कास्ट वहां पहुँच भी गई. सुबह संजय दत्त और जूही चावला पर एक रोमांटिक गाना फिल्माया जाना था. आधी रात को उनके पास एक फ़ोन कॉल आया जिसके दौरान खान से फिल्म की स्टार कास्ट के बारे में बातचीत की गई। सुबह जब पूरी यूनिट सेट पर पहुँची तो वहा जूही चावला की जगह नगमा को देख सब हैरत में पड़ गए।

दरअसल उस फ़ोन कॉल के दौरान फ़िरोज़ खान को फिल्म में जूही की जगह नगमा को लेने या अंजाम के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी गई थी। बाद में जब दाऊद इब्राहिम का एक गुर्गा मुंबई पुलिस के हत्थे चढ़ा तो जाँच के दौरान पता चला कि ये फ़ोन कॉल दाऊद के छोटे भाई अनीस इब्राहिम का था। खैर… इस घटना से पता चलता है कि उस दौर में बॉलीवुड पर अंडरवर्ल्ड का कितना खौफ रहा होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here