जब मिथुन चक्रवर्ती ने गोविंदा को सिखाया सबक

0
180
मिथुन चक्रवर्ती और गोविंदा दोनों अपने दौर के बड़े स्टार थे, लेकिन निर्माताओं की नजर में मिथुन का कद गोविंदा से काफी उंचा था. इसकी एक वजह ये भी थी कि मिथुन काफी डिसिप्लिन से काम करते थे जबकि गोविंदा अपनी मर्जी के मालिक थे. अक्सर देर से सेट पर आना और उल्टी-सीधी फरमाइश उनकी आदतों में शुमार था. एक बार इसी बात को लेकर मिथुन और गोविंदा आमने-सामने आ गए. फिर तो मिथुन दा ने गोविंदा को ऐसा सबक सिखाया कि वो मिथुन के साथ काम करने से ही कतराने लगे.

साल 1988 में मिथुन और गोविंदा केवल शर्मा की फिल्म ‘जीते हैं शान से’ में काम कर रहे थे. दरअसल ये फिल्म गोविंदा और संजय दत्त पर बेस्ड थी और मिथुन इस फिल्म में गेस्ट अपीयरेंस करने वाले थे. शूटिंग शुरू होते ही गोविंदा अपनी आदत के मुताबिक़ मनमानी पर उतर आए. दरअसल गोविंदा उन दिनों कई फिल्मों में एक साथ काम करते थे और शिफ्टों के हिसाब से डेट देते थे. अक्सर उनकी शिफ्ट कैंसिल हो जाया करती थी. उनकी इस आदत से मिथुन और केवल शर्मा दोनों काफी परेशान थे. एक दिन मिथुन ने केवल शर्मा को बुलाकर कहा कि गोविंदा की इन आदतों से उन्हें काफी परेशानी हो रही है इसलिए वो इस फिल्म में काम नहीं कर सकते. केवल शर्मा तो वैसे ही परेशान थे. उन्होंने इसका ये तोड़ निकाला की उन्होंने मिथुन के रोल को रीराईट कर उन्हें फिल्म का हीरो बना दिया और गोविंदा पूरी फिल्म में एक्स्ट्रा बन कर रह गए.

गोविंदा ने जब ये देखा तो वो बुरी तरह नाराज हो गए और मिथुन के खिलाफ मीडिया में पहुंच गए. गोविंदा से नाराज मिथुन ने उनका दो गाना फिल्म से निकलवा दिया. गोविंदा के इस आरोप का जवाब देते हुए केवल शर्मा ने बयान दिया कि वो गोविंदा को फिल्म में लेना ही नहीं चाहते थे लेकिन खुद गोविंदा ने एक होटल में आकर उनसे मिन्नतें की थी कि उन्हें इस फिल्म में लिया जाए. तब जाकर लोगों को मालूम हुआ कि गोविंदा किस तरह लॉबिंग के जरिये दर्जन भर फ़िल्में एक साथ करते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here