जब संजय दत्त ने सलमान खान के मंसूबों पर फेरा पानी Bollywood Aajkal

0
131

सलमान खान बचपन से ही अपने पिता सलीम खान की तरह लेखक बनना चाहते थे .साथ ही उनकी तमन्ना ये भी थी कि वो एक कामयाब निर्देशक भी बनें .18 साल की उम्र होते ही सलमान खान ने कहानियां लिखनी शुरू कर दी. इन्हीं दिनों सलमान खान ने जो कहानी लिखी उस पर ‘बागी’ और ‘तुमको ना भूल पाएंगे’ जैसी फ़िल्में बनी .इनमें से ही एक कहानी थी फिल्म ‘वीर’ की जिसके जरिये सलमान निर्देशन के क्षेत्र में कदम रखना चाहते थे लेकिन अभिनेता संजय दत्त के कारण उनकी ये तमन्ना पूरी नहीं हो पाई .

सलमान खान ने ‘वीर’ की कहानी 25 साल की उम्र में लिखी .इसके पिछले साल ही बतौर एक्टर उनकी पहली फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ रिलीज हो चुकी थी और वो एक स्टार बन चुके थे. इसके बावजूद उन्होंने ‘वीर’ के निर्देशन का इरादा नहीं छोड़ा और पिता सलीम खान के साथ मिलकर स्क्रिप्ट को अंतिम रूप देने में जुटे रहे. स्क्रिप्ट ख़त्म होते ही उन्होंने निर्देशन की तैयारी शुरू कर दी.

इस फिल्म में वो संजय दत्त को लीड रोल में और अमिताभ बच्चन को उनके पिता और कुमार गौरव को उनके भाई के रोल में लेना चाहते थे .अमिताभ बच्चन और कुमार गौरव द्वारा सहमति दे देने के बाद सलमान खान ने संजय दत्त से बातचीत शुरू की .सलमान खान चाहते थे कि संजय दत्त इस फिल्म के लिए एकमुश्त डेट्स दे दें ताकि इस पीरियड ड्रामा को कम से कम लागत में बनाया जा सके .लेकिन संजय दत्त ने काफी दिनों तक लटकाए रखने के बाद सलमान खान को मना कर दिया जिससे नाराज सलमान खान ने फिल्म को ही ठन्डे बसते में डाल दिया .

सलमान खान ने वीर के निर्देशन का इरादा भले ही त्याग दिया हो लेकिन फिल्म बनाने का इरादा नहीं छोड़ा.2009 में उन्होंने अनिल शर्मा के निर्देशन में फिर से ‘वीर’ बनाने का ऐलान किया .इस बार कास्टिंग में सलमान के साथ मिथुन चक्रवर्ती और सोहेल खान का नाम शामिल था. फिल्म 2010 में रिलीज हुई और फ्लॉप साबित हुई .कहा जाता है कि सलमान खान ने अनिल शर्मा को मुखौटा बना कर पूरी फिल्म खुद ही निर्देशित की थी .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here