जब हेमा मालिनी को फिल्म से निकालने की जिद्द करने लगे शाहरुख खान

0
73
अभिनेता शाहरुख खान को बॉलीवुड में हेमा मालिनी की ही देन माना जाता है. हेमा ने अपने निर्देशन में बनी पहली फिल्म ‘दिल आशना है’ से शाहरुख को बॉलीवुड में लांच किया.जल्द ही शाहरुख की ‘दीवाना’ और ‘राजू बन गया जेंटलमैन’ जैसी फ़िल्में हिट हो गयी और शाहरुख इतने बड़े स्टार बन गए कि वो फिल्म ‘ज़माना दीवाना’ से हेमा को ही बाहर निकालने की जिद्द कर बैठे और वो भी रमेश सिप्पी जैसे निर्देशक से. लेकिन तब तक शाहरुख इतने बड़े स्टार बन चुके थे कि सिप्पी को शाहरुख़ खान की बात माननी ही पड़ी.

1995 का साल शाहरुख खान के करियर का गोल्डन ईयर था. इसके ठीक पहले ‘डर’, ‘अंजाम’ और ‘करण अर्जुन’ जैसी फ़िल्में आई, जो बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई थी. ऐसे समय में ‘शोले’ फेम रमेश सिप्पी ने शाहरुख के स्टारडम के सहारे फिल्म ‘ज़माना दीवाना’ के जरिये वापसी की कोशिशें शुरू की. इस फिल्म में उन्होंने शाहरुख खान और रवीना टंडन को साईन किया और साथ ही हेमा मालिनी को एक ख़ास रोल के लिए लेनेवाले थे. शाहरुख खान फिल्म ‘दिल आशना है’ के समय से ही हेमा से नाराज थे क्योंकि उन्हें ऐसा लग रहा था कि हेमा जी ने उनके मुकाबले दिव्या भारती को फिल्म में तवज्जो दी है. जिसकी वजह से उनके खाते में पहली ही फ्लॉप फिल्म शामिल हो गई.

इस नाराजगी के कारण शाहरुख हेमा के साथ काम करने को तैयार नहीं थे. अपनी इस इच्छा से जब उन्होंने रमेश सिप्पी को अवगत कराया तो सिप्पी साहब, शाहरुख़ की इस हिमाकत से अवाक रह गए. सिप्पी ने उन्हें बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन शाहरुख नहीं माने. आखिरकार फिल्म के निर्माता जी.पी.सिप्पी ने रमेश सिप्पी को शाहरुख की बात मानने का हुक्म सुनाया दे दिया. आखिरकार रमेश सिप्पी ने भी ‘चमत्कार को नमस्कार’ करते हुए फिल्म से हेमा मालिनी को निकालकर उनकी जगह बीना मुखर्जी को ले लिया. सारी कवायद के बावजूद ‘ज़माना दीवाना’ एक फ्लॉप फिल्म साबित हुई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here