जब पद्मिनी कोल्हापुरे ने ऋषि कपूर को लगाया करोड़ों का चूना

0
20
ऋषि कपूर शुरुआत से ही काफी जिद्दी किस्म के इंसान रहे हैं. उन्हें जब कोई बात पसंद नहीं आती तो वो कुछ भी करने पर उतारू हो जाते हैं. इसमें भले ही उन्हें खुद का ही नुकसान क्यों ना हो जाए. 1987 में ऋषि कपूर निर्माता-निर्देशक उमेश मेहरा से इतने नाराज हो गए कि उन्हें नुकसान पहुंचाने के चक्कर में ऋषि ने अपनी ही फिल्म फ्लॉप करवा दी.

1987 में उमेश मेहरा ने ऋषि कपूर को जयाप्रदा के साथ फिल्म ‘प्यार के दो पल’ में कास्ट किया. लेकिन जल्द ही दोनों के बीच किसी बात पर अनबन हो गयी जिसकी वजह से मेहरा ने ऋषि कपूर को फिल्म से निकालकर उनकी जगह मिथुन चक्रवर्ती को साईन कर लिया. ऋषि कपूर इस बात से इतने नाराज हुए कि उन्होंने निर्देशक अनिल गांगुली को बुलाकर इसी फिल्म के सब्जेक्ट पर दूसरी फिल्म बनाने को कहा और उनसे वादा किया कि इस फिल्म में सारा पैसा वही लगाएंगे. गांगुली ने उनकी बात मान ली और फिल्म ‘प्यार के काबिल’ का ऐलान कर दिया .

एक ही सब्जेक्ट पर दो फिल्म बनने का ऐलान होते ही निर्मातों के बीच अपनी-अपनी फिल्म पहले पूरी कर रिलीज करने की होड़-सी मच गई. ऋषि कपूर ने अपनी एकमुश्त डेट्स इस फिल्म को दे दी और शूटिंग शुरू हो गयी. शायद ऋषि अपने मकसद में कामयाब भी हो जाते लेकिन फिल्म की हीरोइन पद्मिनी कोल्हापुरे ने ऋषि के मंसूबों पर पानी फेर दिया.

शूटिंग के बीच अचानक पद्मिनी ने होलीडे पर जाने का ऐलान कर दिया और फिल्म की शूटिंग रुक गई. ऋषि ने पद्मिनी को समझाने की पूरी कोशिश की लेकिन वो नहीं मानी और दो महीने के लिए वेनुजुएला चली गई. हीरोइन के बिना शूटिंग रुक गई. उधर उमेश मेहरा ने ‘प्यार के दो पल’ को अपनी प्रतिष्ठा का सवाल बना रखा था. और वो रात-दिन शूटिंग में जुटे हुए थे. फिल्म रिकॉर्ड समय में पूरी हो गयी. पद्मिनी जब तक छुट्टियों से वापस लौटती ‘प्यार के दो पल’ की रिलीज डेट तय हो चुकी थी. फिल्म रिलीज भी हो गयी. ‘प्यार के काबिल’ को पूरे होने में 6 महीने और लग गए .6 महीने बाद जब ये फिल्म रिलीज हुई तो बॉक्स ऑफिस पर पहले ही दिन धराशाई हो गई. इस तरह ऋषि की जिद्द और पद्मिनी कोल्हापुरे के नॉन कॉपरेशन से ऋषि कपूर को करोड़ों का फटका लग गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here