आखिर क्यों बी-ग्रेड फिल्मों का हिस्सा बने बॉलीवुड के ये सुपरस्टार..?

0
69

बॉलीवुड इंडस्ट्री ऐसी जगह है जहाँ लोगों को फर्श से अर्श और अर्श से फर्श तक पहुंचने में देरी नहीं लगती. आज का चमकता सितारा कल गुमनामी के अँधेरे में भी गम हो सकता है .खुद को बचाए रखने की जद्दोजेहद इतनी ज्यादा रहती हैं कि शीर्ष से फिसलता सितारा वक़्त की हर शर्त को मान लेने में ही अपनी भलाई समझता है .ये सोचना वाकई आसान नहीं कि अमिताभ बच्चन और राजेश खन्ना जैसे सुपरस्टार्स को भी मजबूरी में बिग्रेड फिल्मों का हिस्सा बनना पडा . हम बात करेंगे बॉलीवुड के उन नामचीन सुपरस्टार्स की जिन्होंने अपने करियर के लिए बी-ग्रेड फिल्मों में भी काम किया. 

सबसे पहले बात करेंगे बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की.. साल 2003 में ‘बूम’ जैसी बी-ग्रेड फिल्म में अमिताभ बच्चन को देख दर्शक काफी हैरान हुए थे. उस समय बिग बी अपने करियर की दूसरी पारी में थे. करियर के ख़राब दौर में बिग बी ने कई तरह के किरदार निभाए और बी-ग्रेड फिल्मों का हिस्सा बन गए. इस फिल्म से कैटरिना कैफ ने भी बॉलीवुड में कदम रखा. यह फिल्म काफी बोल्ड और एडल्ट होने के बावजूद बॉक्स ऑफिस पर फिल्म बुरी तरह पिट गई और अमिताभ बच्चन के करियर पर बी-ग्रेड का दाग लग गई.

मिथुन चक्रवर्ती भी बी-ग्रेड फिल्मों में काम करने से खुद को नहीं बचा पाएं. उन्होंने फिल्म ‘Classic Dance of Love’ में एक ऐसे आचार्य की भूमिका निभाई थी, जो सेक्स को पाप मानता है. लेकिन बाद में खुद ही आश्रम की लडकियों बुरी नजर देखता है.

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना को भी अपने करियर को बचाने के लिए बी-ग्रेड फिल्मों का सहारा लेना पड़ा है. काका ने साल 2008 में आई बी-ग्रेड फिल्म ‘वफा : अ डेडली लव स्टोरी’ में पाकिस्तानी एक्ट्रेस लैला खान के साथ खूब बोल्ड सीन दिए.

भले ही ईशा कोपिकर बॉलीवुड के बादशाह के साथ स्क्रीन शेयर कर चुकी हों, लेकिन करियर के शुरूआती दौर में ईशा ने सेक्सी, हसीना स्मार्ट नाम की कई बी-ग्रेड फिल्में की हैं.

रेखा ने शुरूआती दौर में तमिल की कुछ बी-ग्रेड फिल्मों में भी काम किया था. पारिवारिक स्थिति ठीक ना होने के कारण उन्होंने कम उम्र में ही काम करना शुरू कर दिया. रेखा ‘कामासूत्र’ जैसी इरॉटिक और बोल्ड फिल्मों का हिस्सा भी रह चुकी हैं.

बॉलीवुड के किंग खान भी बी-ग्रेड फिल्मों में नजर आ चुके हैं. साल 1993 की ‘माया मेमसाब’ जैसी बी-ग्रेड फिल्म में शाहरुख खान ने माया (दीपा साही) के साथ खूब बोल्ड सीन दिए थे.

सामाजिक मुद्दों पर बनी फिल्मों में काम करने वाले बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार भी बी-ग्रेड फिल्मों का हिस्सा बन चुके हैं. शुरूआती दौर में काम की कमी के कारण अक्षय को ‘मिस्टर बॉन्ड’ जैसी बी-ग्रेड फिल्म करनी पड़ी.

90 के दशक की बोल्ड और सेक्सी अदाकारा ममता कुलकर्णी ने अपने करियर में काफी हॉट फिल्में की हैं. लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब उन्हें ‘डिवाइन टेंपल खजुराहो’ जैसी बी-ग्रेड फिल्म का सहारा लेना पड़ा था.

अपने दौर के जाने-माने विलेन और कॉमेडियन रहे शक्ति कपूर भी बी-ग्रेड फिल्मों में हाथ आजमा चुके हैं. शक्ति कपूर ‘मेरी लाइफ में उसकी वाइफ’ जैसी बी-ग्रेड फिल्म कर चुके हैं.

मनीषा कोइराला ने बॉलीवुड में लगभग हिट फिल्में दी हैं, लकिन उनको भी अपने गिरते करियर को संवारने के लिए बी-ग्रेड फिल्मों का सहारा लेना पड़ा था. मनीषा ने साल 2002 में ‘एक छोटी सी लव स्टेरी’ नाम की बी-ग्रेड फिल्म में काम किया.

कैटरीना आज भले ही बॉलीवुड की सबसे सफल और ग्लैमरस अभिनेत्री हों, लेकिन बॉलीवुड में उनकी शुरुआत बी-ग्रेड फिल्मों से ही हुई. साल 2003 में उन्होंने ‘बूम’ जैसी बी-ग्रेड फिल्म में महानायक अमिताभ बच्चन और गुलशन ग्रोवर के साथ कई बोल्ड सीन दिए.

साल 2003 में फिल्म ‘कयामत’ से बॉलीवुड में आगाज करनेवाली नेहा धूपिया भी खुद को बी-ग्रेड फिल्मों से दूर नहीं रख पाई. नेहा धूपिया ‘जुली’ और ‘शीशा’ जैसी बी- ग्रेड फिल्मों में अपना बोल्ड अवतार दिखा चुकी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here